Fri. Nov 27th, 2020

मोटर के प्रोटेक्शन के लिए mpcb का इस्तेमाल किया जाता है। What Is MPCB के इस आर्टिकल में विस्तार से जानेंगे, आशा है ये आपके लिए मददगार होगा।


MPCB


What is MPCB ?

 

MPCB का Full form Motor protection circuit breaker हे। वैसे इसके नाम में ही इसका अर्थ छुपा हुआ हे। किसी भी उपकरण को चला ने के लिए मोटर की जरुरत पड़ती हे। उस मोटर को सुरक्षा देने वाला जो उपकरण हे उसे MPCB (मोटर प्रोटेक्शन सर्किट ब्रेकर) कहते हे।

Advertisement

इसमें सबसे खास बात ये हे की ओवर लोड रिले और MCB की जरुरत नहीं पड़ती। दोनों का काम MPCB  ही कर देता हे।

Image result for WHAT IS MPCB PICTURE WITH GIRL ENGINEER
Motor Protection Circuit Breaker

 

MPCB की आवश्यकता

 

वैसे इलेक्ट्रिकल प्रोटेक्शन स्विच गियर में और भी टाइप के स्विच होते हे जैसे की, MCB, RCCB, MCCB, ELCB  जिसको अलग अलग परिस्थितिओ में अलग अलग आवश्यक्ता के अनुशार सुरक्षा देने के लिए डिज़ाइन किया गया हे।

पर हम यहाँ विशेष रूप से MPCB की बात करे तो वो मोटर प्रोटेक्शन के लिए ही डिज़ाइन किया गया उपकरण हे। इसी लिए मोटर प्रोटेक्शन के विश्वसनीयता के मामले में MPCB ही कारगर हे।  

आमतोर पे मोटर चालू करने के लिए स्टार्टर रहता हे। इसमें एक इनकमिंग पावर के लिए mcb अथवा sfu, कोन्टक्टर और एक प्रोटेक्शन के लिए ओवर लोड रिले रहता हे। यहां mcb और ओवर लोड रिले की जगह सिर्फ MPCB का उपयोग करके मोटर चला सकते हे।

 

MPCB Working Principle & Protection


 

 Over Load protection  :-

 

मोटर प्रोटेक्शन के लिए नोर्मली bimetal ओवर लोड रिले का उपयोग किया जाता हे जो की थर्मल मेग्नेटिक सर्किट ब्रेकर कहा जाता हे। mpcb इसी सिद्धांत पे ओवर लोड का प्रोटेक्शन देती हे।

जिसमे दो अलग अलग धातु टी स्ट्रिप करंट बढ़ने से अपने गुणधर्म के हिसाब से प्रसार और संकोचन होता हे जिसका कांटेक्ट ओपन होने से सर्किट ट्रिप हो जाती हे। जो हमें मोटर का ओवर लोडिंग में होने वाला नुकशान से प्रोटेक्ट करता हे।

 

 Short Circuit Protection:-

 

शार्ट सर्किट में या लाइन में फाल्ट हे तो मेग्नेटिक प्रोटेक्शन काम करेगा और तुरंत सर्किट का पावर बंध कर देगा।

मेग्नेटिक प्रोटेक्शन में स्विच के अंदर एक कोइल रहता हे जिसमे शार्ट सर्किट जैसे फॉल्ट के समय में बहुत ज्यादा करंट पसार होने से चुंबकीय फील्ड उत्पन्न होती हे। जो एक प्लंजर को खींचता हे जिसका कनेक्शन ट्रिपिंग कोइल के साथ रहता हे। जो किसी भी समस्या के दौरान सर्किट को पावर से तुरंत अलग कर देता हे। और मोटर को सुरक्षा प्रदान करता हे।

 

 Unbalance Load :-

 

MPCB का ज्यादा तर उपयोग थ्री फेज मोटर में किया जाता हे। थ्री फेज मोटर के वाइंडिंग रेजिस्टेंस जैसे बेलेन्स होता हे वैसे ही वोल्टेज भी बैलेन्स होना चाहिए तभी तो लोड याने करंट बैलेन्स रहेगा।

तीनो फेज के करंट भी बेलेन्स होना चाहिए। यदि किसी कारण वश असंतुलित होता हे तो वो मोटर के लिए ठीक नहीं हे ऐसी परिस्थिति में mpcb ट्रिप हो जाएगी और पावर सप्लाई अलग करके मोटर को सुरक्षा प्रदान करेगी। 

 

Electrical Interview question for motor

 

 Single Phasing:-

 

SPP ये प्रोटेक्शन बहुत आवश्यक हे। मोटर का प्रभावी तरीके से उत्पादन लेन के लिए उसे तीनो फेज में बैलेंस वोल्टेज मिलने चाहिए। सिंगल फेसिंग का मतलब हे किसी एक फेज में वोल्टेज न मिलना याने किसी कारण वश तीन फेज में से एक फेज में वोल्टेज का जीरो हो जाना।

ऐसी परिस्थिति में मोटर के वाइंडिंग जलने की संभवना बहुत ज्यादा होती हे। पर mpcb में सिंगल फेसिंग प्रोटेक्शन रहता हे जिसकी बजेसे मोटर को कोई नुकशान होने से पहले ट्रिप हो जाता हे। और सप्लाई से अलग कर देता हे।

Motor Protection Circuit Breaker

 

-: Motor Protection Circuit Breaker  की विशेषता :-


 

  • मोटर के स्टार्टर में MPCB  जितनी विश्वसनीयता SFU (Switch Fuse Unit) और  MCB का उपयोग करने में नहीं हे।
  • MPCB 1 एम्म्पयर से लेके 100 एम्पेयर तक अलग अलग रेंज में उपलब्ध हे। और मोटर   के रेटिंग करंट के हिसाब से उसे परफेक्ट सेटिंग कर सकते हे।
  • वोल्टेज रेटिंग में 230VAC, 380VAC, 415VAC, 440VAC, 500VAC  और 660VAC  तक उपलब्ध हे। जिसे हमारी मोटर रेटिंग वोल्टेज के हिसाब से सेलेक्ट करना चाहिए।
  • हमारे यहा इलेक्ट्रिसिटी में फ्रीक्वेंसी 50(hz) हे पर mpcb विशेषता हे की उसे 60 hz तक चला सकते है।
  • मोटर के प्रोटेक्शन के लिए सुरक्षा उपकरण की अलग से जरूर नहीं पड़ती mpcb  एक  protective  device के   रूप में काम करता हे।

 

Air Circuit Breaker

 MCB Working Principle

 Types of Transformer

 

 

Speciality of MPCB

  • MPCB पे इंडिकेटर भी होता हे जिसे यदि मोटर ट्रिप हुआ हे तो उसका पता चल सकता हे।
  • Motor protection circuit breaker में ‘NO NC’ ऑक्सलरी कांटेक्ट रहता हे। जिसको हम ट्रिप इंडिकेशन, ट्रिप अलार्म या तो दूसरा कोई भी इंटरलॉक के लिए उपयोग कर सकते हे।
  • MPCB में Test बटन रहता हे जिसको दबाने से यदि  स्विच सही हे तो वो ट्रिप हो जाती हे। जिसे हमें पता चलता हे की mpcb सही काम कर रही हे या नहीं।
  • Motor protection circuit breaker में Cool down time  रहता हे। जो मोटर प्रोटेक्शन के लिए बहुत आवश्यक हे। यदि एक बार मोटर ओवर लोड में ट्रिप हो जाता हे तो ऑटो में रीस्टार्ट तुरंत नहीं होगा। मोटर कूलिंग के लिए कुछ समय रहेगा बाद में मोटर स्टार्ट होगा। जो मोटर की लाइफ के लिए बहुत अच्छा हे।
  • थ्री फेज मोटर में स्टार्टिंग करंट रेटेड करंट से तीन से पांच गुना रहता हे। mpcb में ओवर लोड प्रोटेक्शन थर्मल मेग्नेटिक होने से मोटर की स्टार्टिंग किक की असर नहीं होती। और मोटर आसानीसे सटार्ट हो जाती हे।
  • MPCB- एम्पेयर कैपेसिटी के हिसाब से अलग अलग तीन साइज में मिलती हे।
  • 0.37 KW से लेकर 37KW तक के मोटर में इसका इस्तेमाल किया जा सकता हे।

 

MPCB से सम्बंधित सभी विषय को यहां कवर करने की कोशिश की हे। फिर इसे भी सम्बंधित कोई सवाल हे तो आप कमेंट बॉक्स में लिख सकते हे। 

 

Common Interview Tips

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x