SF6 Circuit Breaker in Hindi -सर्किट ब्रेकर

SF6 Circuit Breaker in Hindi के इस आर्टिकल में, Circuit breaker का वर्किंग प्रिंसिपल, Sulphur hexafluoride की Properties, SF6 Circuit Breaker के लाभ एवं गेरलाभ और Maintenance of SF6 Breaker के बारेमे विस्तृत जानकारी साजा करने की कोशिश की हे। आशा हे ये आपके लिए मददगार होगी।


33KV, 110KV, 132KV – SF6 Circuit Breaker in Hindi

 

MCB से लेके SF6 Breaker तक सभी स्विचिंग डिवाइस का काम समान ही हे।

लेकिन अलग-अलग वोल्टेज का मूल्य एवं लोड कैपेसिटी के आधार पे हमें अलग-अलग प्रकार के सर्किट ब्रेकर का चुनाव करना पड़ता हे।

वैसे ब्रेकर का काम इलेक्ट्रिकल सर्किट एवं इक्विपमेंट्स को प्रोटेक्शन देना हे। और इसके आलावा जब हमारी जरूरियात हो तब हम इलेक्ट्रिकल पेनल्स एवं उपकरण का पावर ON और OFF कर सकते हे।

 

SF6 Circuit Breaker in Hindi
Indoor breaker- SF6 Circuit Breaker in Hindi

 

SF6 Circuit Breaker में SF6 (सल्फर हेकशा क्लोराइड) गैस इंसुलेशन माध्यम हे। जो Circuit Breaker मेक एंड ब्रेक के समय में होने वाले इलेक्ट्रिक आर्क को नाश करता हे।

अलग-अलग ऐप्लिकेशन के आधार पे अलग अलग टाइप के ब्रेकर का उपयोग किया जाता हे।

SF6 breaker HV लाइन में पावर स्टेशनो में ट्रांसफार्मर के पहले और ट्रांसमिशन लाइन के स्टार्ट उप में उपयोग किया जाता हे।

Air Circuit Breaker लौ वोल्टेज के लिए उपयोग होता हे। Vacuum Circuit Breaker, OIL Circuit Breaker और Air Blast Circuit Breaker मेडिअम वोल्टेज के लिए उपयोग किया जाता हे।

 

Vacuum Circuit Breaker

 Air Circuit Breaker

 Star Delta Starter

 

Properties of Sulphur hexafluoride Gas

 

1-SF6 गैस ज्वनलशील नहीं होता, उसका कलर एवम गंध भी नहीं होती।

2-इसकी Density हवा से पांच गुना ज्यादा हे। ये बहुत ही स्थिर और निष्क्रिय हे।

3-SF6 की थर्मल कंडक्टिविटी हवा से बेहतरीन हे जो कूलिंग में सहायता करती हे।

4-ये एक इलेक्ट्रोनेगटिव गैस हे जो नेगेटिव ions के गठन को आसानी से रिमूव कर सकता हे।

5-ये गैस स्पार्क को हटाने के बाद बहुत ही जल्दी फिरसे सयोजन हो जाता हे। जो दूसरे आर्क extinguishers की तुलना में बहुत आगे हे।

6-SF6 Breaker की डाइ-इलेक्ट्रिक स्ट्रेंथ एयर से 2.5 गुना और आयल से 30% कम होती हे। पर जैसे गैस का प्रेशर बढ़ता हे उसकी Dielectric स्ट्रेंथ बढाती हे।

7-Humidity और SF6 गैस के रिएक्शन के कारण हाइड्रोजन फ्लोराइड का निर्माण होता है जो आर्क बुझाते समय ब्रेकर के पार्ट्स को इफ़ेक्ट करता हे।

 

Classification of SF6 Breaker

एप्लीकेशन के आधार पे तीन टाइप के SF6 ब्रेकर होते हे। इसमें वोल्टेज के मूल्य के आधार पे ब्रेकर का सिलेक्शन किया जाताहे।                

 

Types of SF6 Circuit Breaker  Use Voltage Range
Single Interrupter SF6 Circuit Breaker 220kv सिस्टम के लिये यूज होता हे।
Double Interrupter SF6 Circuit Breaker 420kv सिस्टम के लिये उपयोग होता हे।
Four Interruper SF6 Circuit Breaker 760kv सिस्टम के लिये उपयोग किया जाता है।

 

Working Principle of SF6 Circuit Breaker

 

हमारी जरूरियात के मुताबिक ऑपरेशन करने की जरुरत पड़े या फिर किसी असामान्य स्थिति में ब्रेकर ऑपरेट होता हे तो ब्रेकर के फिक्स और मूविंग दोनों कांटेक्ट के बीचमे इलेक्ट्रिक आर्क जनरेट होगा। 

ब्रेकर Interrupter में मूविंग कांटेक्ट के साथ एक वाल्व सिंक्रोनाइज़ स्थिति में होता हे। और साथ में गैस का पिस्टन होता हे। जहा से SF6 गैस का प्रेशर मिलता हे।

जैसे ही मूविंग कांटेक्ट कोई भी ऑप्रेशन में अपनी जगह छोड़ता हे तो सीधा गैस का वाल्व ओपन होता हे। प्रेशर से मिलने वाला गैस इलेक्ट्रिक आर्क को बुजा देता हे।

नार्मल कंडीशन में SF6 गैस का प्रेशर 6.2 kg/cm2 होता हे।

ऑपरेशन के समय में ये प्रेशर 14 to 17 kg/cm2 हो जाता हे।

यदि किसी कारण वश नार्मल स्थिति में गैस की प्रेशर 4.5 kg/cm2 से कम हो जाता हे तो ब्रेकर का कोई ऑपरेशन नहीं होगा। इस तरह का एक इंटर लॉक लिया जाता हे। वैसे पहले 5kg पे अलार्म भी देता हे इसके बाद 4.5kg पे लोक हो जाता हे।

 

Elect. Interview Questions for motor

  Interview Question for Transformer

 

Advantage OF SF6 Circuit Breaker

 

1 – SF6(सल्फर हेक्सा क्लोराइड) गैस बेहतरीन इंसुलेटिंग मटेरियल हे। जो आर्क बुझाने में सर्वोत्तम माना जाता हे।

2 – इसमें आग लगने का या विस्फोट होने का कोई खतरा नहीं हे क्युकी ये ज्वलनशील नहीं हे।

3 – SF6 गैस में उत्कृष्ट इंसुलेटिंग, चाप बुझाने और कई अन्य गुण हैं जो SF6 सर्किट ब्रेकर के सबसे बड़े लाभ हैं।

4 – गैस गैर-ज्वलनशील और रासायनिक रूप से स्थिर है। उनके अपघटन उत्पाद गैर-विस्फोटक हैं और इसलिए आग या विस्फोट का कोई खतरा नहीं है।

5 – SF6 की उच्च Dielectric strength के कारण इलेक्ट्रिक क्लीयरेंस बहुत कम हो होता है।

6 – SF6 Circuit Breaker ओप्रशन में किसी प्रकार का एबनॉर्मल आवाज नहीं होता।

7 – आर्क के समय में कार्बन पार्टिकल नाहीवट हे इसीलिए Dielectric स्ट्रेंथ पे कोई असर नहीं होता।

8 – मेंटेनेंस बहुत कम रहता हे, गैस को कम्प्रेस करने की सिस्टम भी मॅहगी नहीं होती।

9 – SF6 Circuit Breaker की तुलना में Air Circuit Breaker, Oil  Circuit Breaker  Vacuum Circuit Breaker, और Air Blast Circuit Breaker में मेक एंड ब्रेक से समय में उत्पन्न होने वाले आर्क को बुझाने में समय ज्यादा लगता हे।

 

Disadvantage of Sulphur hexafluoride (SF6) C B

 

1- SF6 (सल्फर हेक्साक्लोराइड) से कुछ हद तक सफोकेशन हो सकता हे।

2- यदि ब्रेकर से SF 6 गैस लीकेज होता हे तो ये हवा से भारी होने के कारण वो आस-पास में फेल जायेगा जो ब्रेकर को ऑपरेट करने वाले को इफ़ेक्ट कर सकता हे।

3- SF6 सर्किट ब्रेकर में यदि मॉइस्चर चला जाये तो ये ब्रेकर को नुकशान कर सकता हे। और ऐसे प्रॉब्लम कही जगह पे मिलते हे।

4- ब्रेकर के अंदर के भाग को समयांतर पे चेक और साफ सफाई करनी पड़ती हे। उसे क्लीन एंड ड्राई रखना पड़ता हे।

5- गैस चार्जिँग और ट्रांसपोटशन के लिए अलग से फैसिलिटी रखनी पड़ती हे।

 

33kv,110 kv, 132kv SF6 Circuit Breaker Parts And Function

 

SF6 ब्रेकर की मेकेनिजम ज्यादा बदलाव नहीं हे पर दूसरे ब्रेकर की तुलना में हैवी रहती हे।

वैसे सर्किट ब्रेकर का कार्य सिद्धांत एक ही हे सिर्फ अलग-अलग मीडियम का उपयोग किया जाता हे।

Interrupter

SF6 के Interrupter में सल्फर हेकशा फ्लोराइड गैस का का उपयोग होता हे। साथ में फिक्स और मूविंग कांटेक्ट होता हे।

वैसे  Vacuum Circuit Breaker के Interrupter में  वैक्यूम का इस्तेमाल होता हे। Oil Circuit Breaker में आयल का उपयोग होता हे और Air Circuit Breaker में एयर का इस्तेमाल होता हे। 

Interrupter का काम जनरेट होने वाली इलेक्ट्रिक आर्क को रोकना हे।

 

Types of Transformer

Direct On Line Starter

Power Factor in hind

 

SF6 Circuit Breaker को भी इलेक्ट्रिकली और मैकेनिकली दोनो तरह से ऑपरेट कर सकते हे। इसमें रिमोट और लोकल की सेलेसक्टर स्विच होती हे। होती हे जिसको रिमोट सेलेक्ट करके हम कंट्रोल रूम से ऑपरेट कर सकते हे।

Sulphur hexafluoride Circuit Breaker में प्रेशर गेज और प्रेशर स्विच होती हे।

प्रेशर गेज sf6 गैस का मौजूदा प्रेशर दिखता हे जबकि स्विच गैस प्रेशर कम होता हे तब अलार्म देता हे। और एक लिमिट से ज्यादा कम होने पर ब्रेकर को निष्क्रिय का कमांड देता हे।

SF6 Circuit breaker- 

SF6 में भी बाकि ब्रेकर की तरह स्प्रिंग चार्जिंग मोटर होती हे। जिसे ऑक्सिलरी सप्लाई दिया जाता हे। साथ में लिमिट स्विच होता हे जो स्प्रिंग चार्ज होने के बाद सप्लाई को कट ऑफ कर देता हे। स्प्रिंग चार्ज का इंडिकेशन रहता हे जहा से ब्रेकर की स्प्रिंग चार्ज हे की नहीं ये पता कर सकते हे।

Circuit breaker पे ब्रेकर को ऑपरेट करने के लिए ‘ON’ OFF’ पुश बटन एवं ब्रेकर की मौजूदा स्थिति जानने के लिए इंडिकेशन होते है।

SF6 Circuit Breaker में मॉइस्चर दूर करने लिये स्पेस हीटर होता हे। ब्रेकर क्लोजिंग के लिये क्लोजिंग कोइल ट्रिपिंग लिये शंट कोइल होती हे। कंट्रोल पैनल पे ब्रेकर के ON’ OFF’ TRIP’ Trip ckt. Healthy  जैसी स्थिति जानने के लिए इंडिकेशन होते हे।

Circuit Breaker में करंट ट्रांसफार्मर (CT) और पोटेंशियल ट्रांसफार्मर (PT) का उपयोग करके इलेक्ट्रिकल पैरामीटर एवं प्रोटेक्शन लिया जाता हे। जिसमे ओवर लोड,शार्ट सर्किट, अर्थ फॉल्ट, ओवर अंडर वोल्टेज, जैसे कही सारे प्रोटेक्शन लिया जाता हे। जिसकी प्रोटेक्टिव रिले माइक्रो प्रोसेसर के बेस पे काम करती हे। इसे कंट्रोल पैनल पे इन्सटाल्ड किया जाता हे।

 

Electrical Safety And Hazards

 

Maintenance of SF6 Circuit Breaker

 

  • मेंटेनेंस का काम वर्क परमिट बनाके रिलेटेड डिपार्टमेंट परमिशन लेके किया जाता हे।        
  • सर्किट ब्रेकर की मिकेनिजम में पुराना ग्रीस को साफ करके नया ग्रीस लगाना पड़ता हे।     
  • SF6 Circuit Breaker में पावर और कंट्रोल कनेक्शन की टाइटनेस चेक की जाती हे।          
  • Sulphur hexafluoride breaker में लगा प्रेशर गेज का कैलिब्रेशन किया जाता हे। एवं प्रेशर स्विच की जांच की जाती हे।                                                           
  • सर्किट ब्रेकर में सल्फर हेक्सा फ्लोराइड गैस का लीकेज चेक किया जाता हे।                 
  • Circuit Breaker का कॉन्टेक्ट रेजिस्टेंस चेक किया जाता हे।                    
  • SF6 Circuit Breaker के तीनो पोल का अर्थ के साथ एवं फेज तो फेज Insulation Resistance चेक किया जाता हे।

 

SF6 सल्फर हेक्साफ्लुओरिड FAQ

 

1 – SF6 और VCB ब्रेकर में क्या अंतर होता है ?

SF6 क्रिकइत ब्रेकर और VCB में मुख्या अंतर इसका वोल्टेज लेवल है। SF6 33 KV से ऊपर की लाइन में यूज़ होता है। और VCB ब्रेकर 33 kv  से कम वोल्टेज लेवल में यूज़ होता है। 

sf6 में स्पार्क बुझाने का माध्यम सल्फर हैक्जा क्लोराइड है। जहा vcb में वैक्यूम से स्पार्क को बुझाया जाता है।

2 – SF6 ब्रेकर में कितना प्रेशर मेन्टेन किया जाता है ?

आमतौर पर SF6 ब्रेकर में 6.5 KG/CM2 प्रेशर मेन्टेन किया जाता है।

3 – SF6 ब्रेकर की रेंज कितनी है ?

SF6 ब्रेकर 33KV से लेकर 800KV तक इस्तेमाल कर सकते है। ये सबसे बड़ी रेंज का सर्किट ब्रेकर है। 

4 – SF6 का पूरा नाम क्या है ?

SF6 ये केमिकल फार्मूला है। इसका पूरा नाम सल्फर हेकशा क्लोराइड है। ये कलर लेस्स गैस है।

Spread the love

Leave a Comment